Menu
Back
Raigar Ratna
Raigar Dimond

      रैगर समाज में ऐसी अनकों दिव्‍य व्‍यक्तित्‍व की धनी महानात्‍माओं का जन्‍म हुआ । जिन्‍होंने हमारे समाज को विकास की एक नई राह दिखाई ऐसी महान आत्‍माओं को हम कोटी-कोटी प्रणाम करते हुए उनके आभारी है जिनके सदकर्मों से समाज गोरवान्वित हुआ है । ये ही हमारे समाज के कोहीनूर के हीरे है अथात् हमारे समाज के 'रत्‍न' है । समाज के इन रत्‍नों ने हमारी आने वाली भवी पीढ़ि के मार्गदर्शन एवं प्रेरणा स्‍त्रोत बनकर समाज को और गौरवशाली बनाते हुए एक आदर्श व अनुपम उदाहरण प्रस्‍तुत किया है । समाज में अनेको ऐसी विभुतियों हुई है जिन्‍होंने समाज के साथ-साथ देश के लिए भी अपना बलिदान दिया है । धर्मदास जी शास्‍त्री, सेठ श्री भंवर लाल जी नवल एवं श्री एस.के. दास साहब हमारे समाज के ऐसे रत्‍न है जिनका समाज हमेशा आभारी रहेगा इनके सदकर्मों एवम् महान कार्यों ने समाज का मान-सम्‍मान बढ़ाया है ओर समाज को एक नई दिशा और प्रगति प्रदान की है जैसे धर्मदास जी शास्‍त्री ने चतुर्थ अखिल भारतीय रैगर महासम्‍मेलन जयपुर में तत्‍कालीन प्रधान मंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी को समाज के बीच लाकर समाज की अखण्‍ड एकता से अवगत कराया । सेठ भंवर लाल जी नवल ने समाज एवं गरीब वर्ग को आगे बढ़ाने के उद्देश्‍य को ध्‍यान में रखते हुए आज तक 1400 जोड़ों का निशुल्‍क विवाह सम्‍मेलन के माध्‍यम से किये है एवं अनकों छात्रावास अपने खर्च से बना कर प्रदान किये तथा इनके निवास स्‍थान छोटी खाटू में एक विशाल हास्‍पिटल का निर्माण कराते हुए शासन को समर्पित किया जो समाज के विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा की है ओर कर रहे है । श्री एस.के. दास जी ने अपनी उच्‍च शासकीय सेवाऐं देते हुए समाज के गौरव को बढ़ाया है । समाज में ऐसे अनेको रत्‍न है जिन्‍होंने अपने सदकार्मों से समाज और देश के सामने एक नई मिसाल रखी है व अपनी कार्यकुशलता, प्रतिभा, कुशल प्रशासक, नेतृत्व दक्ष, विकास के आधार पुरुष, निष्काम सेवा भावी समाज को सर्वपरी माननेते हुए समाज सेवी उच्‍च विचारों से समाज और देश को धन्‍य किया है । ऐसे दिव्य चरित्र दानवीर भामाशाह एवं उच्‍च पदो पर आशीन समाज की ये महान् विभूतियां रैगर समाज का गौरव बढ़ा रही है ।

पेज की दर्शक संख्या : 5787