Menu
Back
Nat

      नट सात तरह के होते है -

       1. गुजराती नट- ये किसी जाति विशेष के नट नहीं हैं । तमाशे दिखाना इनका मुख्‍य पेशा है । ये लाव पर चढ़कर खेल दिखाते हैं । ये नटों में सबसे श्रेष्‍ठ नट माने जाते है ।

       2. राज नट- इनको भांतु भी कहते हैं । ये लड़कियों को खरीद कर उनसे वेश्‍यावृत्ति का पेशा करवाते हैं ।

       3. भ्रेच्‍या नट- ये नट भी किसी जाति विशेष को नहीं मांगते हैं । ये बहुरुपिये का काम करके अपना गुजारा करते हैं ।

       4. नट कंजर- ये गुर्जरों के नट हैं । गुर्जर जाति के अलावा किसी को नहीं मांगते हैं ।

       5. चमारों के नट- इस को चौरास्‍या नट भी कहते हैं । ये केवल चमारों को ही मांगते हैं । इनकी उत्‍पत्ति ढोली जाति से होना बताया जाता है ।

       6. मल्‍ल नट- ये मुसलमान होते हैं । ये भी खेल दिखाते है । ये पत्‍थर को मुक्‍के से तोड़ना, पत्‍थर उछालकर भुजा पर झेलना, मूछों तथा सिर के बालों से बांधकर ट्रक खींचना एवम् बालों से पत्‍थर उठाना आदि खेल दिखाते हैं ।

       7. रैगरों के नट- इनको नौलखिया नट भी कहते है । ये केवल रैगर जाति को ही मांगते है । चाकसू से इनकी उत्‍पत्ति बताई जाती है । इनके 14 गोत्र है । कालेट, ढावसी, उड़ानसी, भाण्‍ड, जागा, चारण, परपड़, कण्‍डारा, पारदा, धनावत, राणियावत, धोंकरवाल, नारोलिया तथा खोलवाल है । इन सब में आपस में खान-पान तथा बेटी व्‍यवहार होता है । इनकी आबादी राजस्‍थान तथा दिल्‍ली के अलावा कहीं नहीं है । ये खास तौर से चाकसू तहसील में आबाद है । चाकसू के अलावा जमुआ रामगढ़, जयपुर, चित्तौड़गढ़, बेगलियावास, ब्‍यावर, फूलिया, जहाजपुर, सिंगोली, सांवता वगैरा में भी बसे हुए हैं । इनका परम्‍परागत धन्‍धा दोहे और कविताओं में यजमानों की विरदावली बोलना है तथा मनोरंजन के लिए खेल करना आदि है । पहले शादि विवाह में नटों के नेक चुकाये जाते थे । आजकल रैगरों के नटों ने बैण्‍ड, शहनाई, नगाड़े बजाना, खेल पार्टी (नौटंकी), मजदूरी तथा ऊंट घोड़ो के व्‍यापार आदि करना शुरू कर दिया है । इनमें शिक्षा का अभाव है । इनका परम्‍परागत धन्‍धा समाप्‍त होता जा रहा है ।

 

 

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत 'रैगरजाति : इतिहास एवं संस्‍कृति')

 

पेज की दर्शक संख्या : 14922