Raigar Website History menu
Raigar Fighter

kshatriya       रैगर जाति में एक नहीं अनेकों झूंझार हुए हैं । झूंझार उसे कहते हैं जो युद्ध में लड़ते हुए वीर गति को प्राप्‍त होता है । झूंझार योद्धा होता है जो युद्ध में हार कर लौटने की बजाय बहादुरी के साथ लड़ते हुए युद्ध स्‍थल में ही मरना श्रेष्‍ठ समझता है । रैगर जाति के झूंझारों का इतिहास देखने से यह प्रमाणित होता है कि रैगर एक बहादुर कौम है । वे क्षत्रियों की तरह ही हथियार उठा कर युद्ध में कूदे हैं और वीरता का परिचय देते हुए युद्ध में वीरगति को प्राप्‍त हुए हैं । यह दुर्भाग्‍य की बात है कि इतिहासकारों ने रैगर झूंझारों को कहीं स्‍थान नहीं दिया । मगर रैगरों की बही भाटों की पोथियों में इनके पूरे प्रमाण उपलब्‍ध हैं । रैगर जाति में हुए कुछ झूंझारों का वर्णन निम्‍नानुसार हैं-
       सम्‍वत् 1172 में मानसहाय खटनावलिया युद्ध में लड़ते हुए वीर गति को प्राप्‍त हुए । सम्‍वत् 1232 में शेखावतों के युद्ध में ईशर खटनावलिया लड़ते हुए रण स्‍थल में खेत रहा । श्री वेणा कुरड़िया (निवासी- नागौर), अमरसिंह राठौड़ के समय में युद्ध में लड़ते हुए शत्रुओं द्वारा मारे गये । सम्‍वत् 1561 में श्री खेताजी कुरड़िया (निवासी पीपाड़) दरबार सुमेरसिंहजी के समय में हुए युद्ध में लड़ते हुए मारे गये । सम्‍वत् 1632 में श्री माणक बडारिया (निवासी- खेड़ा) किशनगढ़ के राठौड़ों और डोडी राजूतों के बीच हुए संघर्ष में लड़ते हुए वीर गति को प्राप्‍त हुए । सम्‍वत् 1153 में गुंजल सवांसिया (निवासी- दिल्‍ली) पृथ्‍वीराज और मुगलों के बीच हुए युद्ध में बड़ी बहादुरी से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्‍त हुए । दिल्‍ली में पुराने किले के पास वीर गुंजल की समाधि बनी हुई थी । हमीरा तगाया की कहानी ने तो रैगरों के सिर को ऊँचा कर दिया है । सम्‍वत् 1433 में खुमानराणा हालाहाड़ा के बीच जंग हई जिसमें हमीरा बहादुरी के साथ लड़ते हुए वीरगति को प्राप्‍त हुआ । सम्‍वत् 1672 में धनजी जेलिया केलावा के युद्ध में लड़ते हुए शहीद हुए । सम्‍वत् 732 में बीजमेर मोणिया (निवासी- पीपलाद) मराठों के युद्ध में लड़ते हुए शहीद हुए । कालूजी बंसीवाल (निवासी- बस्‍सी) ने सम्‍वत् 1303 में मुगलों के आक्रमणों में बड़ी बहादुरी के साथ लड़ते हुए प्राण गंवाए । सम्‍वत् 1613 में हेमा बंसीवाल (निवासी- बस्‍सी) सरवाड़ के मीरखां की लड़ाई में वीरगति को पाप्‍त हुए । चित्तौड़ निवासी शिवशंकर मण्‍डावरिया राजपूतों और मुगलों की लड़ाई में वीरता का प्रदर्शन करते हुए युद्ध में काम आया । गौरधन झाड़ोटिया गोगदव चौहान और मुगलों के बीच हुए युद्ध में लड़ते हुए मारा गये । सम्‍वत् 603 में राजू मोलपुरिया निवासी मालपुरा ने टौंक के बादशाह तथा जैसलमेर के भाटियों के बीच हुए युद्ध में बड़ी वीरता के साथ लड़ते हुए मरा और शूरमा कहलाया । वीरता की दृष्टि से रैगर युद्ध में दुश्‍मानों के छक्‍के छुड़ाने में किसी से पीछे नहीं रहे हैं । वीरता, त्‍याग, बलिदान तथा शौर्य की दृष्टि से रैगरों का इतिहास शानदार रहा है । रैगर हमेशा ही बहादुर कौम रही है ।

 


(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत 'रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति')

 

पेज की दर्शक संख्या : 4786