menu
Back
Sant Ravidas Raigar Chatrawas KOTA


      कोटा नगर चम्‍बल नदी के तट पर बसा हुआ है जो कि औद्योगिक एवम् शैक्षणिक नगरी के रूप में जाना जाता है । कोटा को भारत में उच्‍च स्‍तरीय शिक्षा की तैयारी के लिए शैक्षणिक संस्‍थानों की खान के रूप में देखा जाता है और भारत में नम्‍बर एक की दर्जा प्राप्‍त है अर्थात् शिक्षा की दृष्टि से कोटा एक महत्‍वपूर्ण स्‍थान है जहां पर देश विदेश से विद्यार्थी पी.ई.टी., पी.एम.टी., आर्इ.आई.टी. एवम् अन्‍य परीक्षाओं की तैयारी के लिए पढ़ाई करने आते हैं । जिसमें अपने समाज के भी बच्‍चे आते हैं जिन्‍हें भी ठहरने के लिए कमरों की आवश्‍यकता होती है इसको देखते हुए समाज ने कोटा में एक छात्रावास के निर्माण की आवश्‍यकता समझी और समाज के बुद्धिजीवी नागरिकों ने जागरूक होकर एक जिलाध्‍यक्ष का चुनाव कर अध्‍यक्ष को चुना एवम् कार्यकारिणी का विकास कर इस कार्य के लिए जुट गए और राजस्‍थान सरकार से भूमि प्राप्‍त करनें के लिए प्रार्थना पत्र प्रस्‍तुत कर पूव्र स्‍वायत शासन मंत्री मनोनीत श्री शांति धारीवाल के सहयोग से 40X40 मी. भूमि आवंटित कराई जिसको सरकार से मात्र एक रूपया टोकन मनी के रूप में खरीदी गई । इसके पश्‍चात् शिलान्‍यास का कार्यक्रम रखा गया जिसमें मुख्‍य अतिथि श्री धारीवाल जी को रखा गया जिन्‍होंने छात्रावास के निर्माण के लिए 5 लाख की दो किश्‍तों की घोषणा की और दो वर्षों मे देना प्रस्‍तावित किया । श्रीमान् ने एक किश्‍त तो उसी समय ग्रहण कर 7 कमरों व शौचालय-स्‍नानाघरों का निर्माण करवाया दूसरी किश्‍त का अगले वित्तिय वर्ष में होना था कि दुर्भाग्‍य से कांग्रेस सरकार का नहीं होना, जिसका लाभ नहीं उठा सके । ओर एक किश्‍त का काम रह गया अन्‍यथा दूसरी लाईन में यह कमरे बन सकते थे । इसके साथ ही समाज के गणमान्‍य प्रबुध नागरिकों ने भी दान के रूप में काफी रकम दी है तथा साथ ही समाज के भामाशाह श्री आर.के. वर्मा जी संचालक रेजोनेन्‍स कोचिंग कालेज द्वारा छात्रावास के सामने का प्रशासनिक भवन का निर्माण कराया गया जिसकी लगात लगभग साढे पांच लाख आई है और इतनी ही रकम समाज के योगदान से हुई है इस प्रकार इस छात्रावास के निर्माण में लगभग 20 लाख रूपये खर्च हो चुके हैं । इन सभी महानुभावों की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी ही कम है और आज हमे इस मुकाम तक पहुँचाया है । साथ ही रैगर समाज के महान् भामाशाह सेठ श्री भंवर लाल जी नवल द्वारा छात्रावास के लिए 15 कमरे जिनकी साईज 10'X10', शौचालय व स्‍नानाघर के निर्माण के लिए आठ लाख रूपये का दान दिया है इसके अलावा उन पंद्रह कमरों के सामने बरामदों के निर्माण के‍ लिए चार लाख रूपये का अलग से दान दिया है । एवम् इस कार्य को अखिल भारतीय रैगर महासभा जिला कोटा के पदाधिकारियों की देख रेख में पूरा करवाया गया ।

       संत रविदास रैगर समाज छात्रावास का शिलान्‍यास श्री शान्ति लाल धारीवाल राज्‍य शिक्षा मंत्री राजस्‍थान सरकार द्वारा 18.08.2002 को किया गया । इसी क्रम में आगे श्री चन्‍दालाल जी खमोकरिया पिता श्री आर.के. वर्मा द्वारा लगभग 2000 वर्ग फुट का सम्‍पूर्ण कर दिनांक 07.09.2003 को समाज को समर्पित किया । इस छात्रावास का उद्घाटन समारोह दिनांक 28.01.2007 को आयोजित हुआ । इस समारोह में सेठ श्री भंवर लाल नवल जी पधारे व उनके कर कमलों से इस छात्रावास का उद्घाटन हुआ ।

       आज छात्रावास में 22 कमरें है । यहां पानी की समुचित व्‍यवस्‍था है ओर वर्ष भर पानी की पूर्ण व्‍यवस्‍था रहती है । यहां पर 45 छात्रों के रहने की पूर्ण व्‍यवस्‍था है एवम् अभी यहां पर 45 छात्र रह रहे है । इस प्रकार समाज का यह छात्रावास कोटा में रैगर समाज की गरिमा बढा रहा है ।

छात्रावास का पता :- संत रविदास रैगर समाज छात्रावास, श्री नाथपुरम, सेक्‍टर - बी,
कोटा-324010 (राज.)

पेज की दर्शक संख्या : 3358