menu
back
Akhil Bhartiya Raigar Mahasamelan

       स्‍वामी आत्‍मारामजी लक्ष्‍य ने समाज सुधार और जाति उत्‍थान का अपने जीवन का लक्ष्‍य बनाकर प्रचार कार्य शुरू किया । सत्‍संगों के माध्‍यम से यह प्रचार कार्य चलता रहा । स्‍वामीजी प्रचार करते हुए आंधी थौलाई गांव में पहुंचे । वहाँ के रैगर बंधुओं ने स्‍वामीजी से एक विशाल सत्‍संग उनके गांव में आयोजित करने का निवेदन किया । वे चाहते थे कि इस सत्‍संग में दिल्‍ली, जयपुर, अजमेर आदि जगहों से रैगर बंधु आएं और उस अवसर पर जाति सुधार पर विचार विमश्र हो । स्‍वामीजी यह विचार लेकर दिल्‍ली पधारे और वहाँ के प्रमुख लोगों - श्री रामस्‍वरूप जाजोरिया, कंवरसैन मौर्य, खुशहालचन्‍द्र मोहनपुरिया, शम्‍भुदयाल गाडेगांवलिया के समक्ष रखे । उन्‍होंने स्‍वामीजी को सुझाव दिया कि विशाल सत्‍संग की बजाय एक विशाल रैगर महा सम्‍मेलन बुलाया जाय । इसमें आर्य समाज का भी सहयोग लेना निश्चित हुआ । आंधी थौलाई गांव यातायात के साधनों आदि की दृष्टि से सम्‍मेलन के लिए उपयुक्‍त स्‍थान नहीं समझा गया । इसलिए दौसा में सम्‍मेलन किया जाना निश्चित हुआ । यह सम्‍मेलन 2, 3 तथा 4 नवम्‍बर, 1944 में दौसा में सम्‍पन्‍न हुआ । और अब तक कुल मिलाकर 5 सम्‍मेलन आयोजित हो चुके है ।

 

☞ प्रथम अखिल भारतीय रैगर महासम्‍मेलन (दौसा, 1944)

☞ द्वितीय अखिल भारतीय रैगर महासम्‍मेलन (जयपुर, 1946)

☞ तृतीय अखिल भारतीय रैगर महासम्‍मेलन (पुष्‍कर, 1964)

☞ चतुर्थ अखिल भारतीय रैगर महासम्‍मेलन (जयपुर, 1984)

☞ पंचम अखिल भारतीय रैगर महासम्‍मेलन (दिल्‍ली, 1986)

 

 

 

पेज की दर्शक संख्या : 4047